क्या है जनता पत्रकार

हमारे बारे में

भास्कर प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड 01 जुलाई 1985 को निगमित एक निजी कंपनी है। इसे भारतीय गैर-सरकारी कंपनी के रूप में वर्गीकृत किया गया है और यह रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज, ग्वालियर में पंजीकृत है।

जबलपुर स्थित अग्रवाल परिवार द्वारा कंपनी का प्रचार-प्रसार किया जाता है, भास्कर प्रकाशन प्राइवेट लिमिटेड (BPPL) 1985 से अखबार प्रकाशन व्यवसाय में लगा हुआ है और जबलपुर में सात संस्करणों में ‘दैनिक भास्कर’ हिंदी समाचार पत्र प्रकाशित करता है (Estd-1-7-1986) , सतना (Estd-27-9-1993), छिंदवाड़ा (Estd- 25-10-2008), सिंगरौली (Estd-30-11-2013) मध्य प्रदेश और नागपुर में (Estd-08-12-2002), अकोला महाराष्ट्र में एस्टड -02-09-2009) और औरंगाबाद (एस्टड-27-08-2011)।

हमारा विज़न

दुनिया में प्रतिभा की कमी नहीं है इस जगत में जन्मे सभी इंसानों में कुछ न कुछ प्रतिभा है वह उसी के आधार पर अपने जीवन में कुछ करता रहता है| और सभी को कुछ अलग और नया करने की रूचि भी रहती है अगर आपको भी अब अपनी प्रतिभा और रूचि को छुपाने की जरुरत नहीं है| हम लेकर आए है आपके लिए एक प्लेटफार्म जहाँ आप अपनी अन्दर की पत्रकारिता को नया रूप दी सकते है|

अगर ऐसा है तो आप किस बात का इंतजार कर रहे है जल्द ही आइये और अपनी लिखने की प्रतिभा को उभारिये| आपका कोई लेख हो आप की लिखी कविता हो या हो आपके आस पास हुआ कोई प्रोग्राम बस उसके बारे में लिखे और हमें भेजे| हम उसको आपके नाम के साथ जनता पत्रकार में पब्लिश करेगें|

जनता पत्रकार क्या है ?

समाज में हो रहे अन्याय, शोषण के खिलाफ लिखना एक पत्रकार का कर्तव्य और धर्म है। एक पत्रकार अपनी कलम से समाज में व्याप्त तमाम अच्छाईयों और बुराईयों से सभी को अवगत कराने का काम पूरी मेहनत और लगन से करता है। लेकिन भरसक प्रयासों के बाद भी कई खबरें हैं जो लोगों के सामने नहीं आ पाती हैं। समाज की इस समस्या को दूर करने का बीड़ा भास्कर हिंदी ने उठाया है। “जनता पत्रकार” के माध्यम से भास्कर हिंदी के उन लोगों को लिखने का मौका दे रहें हैं जो पेशेवर तो नहीं हैं, लेकिन हुनरमंद हैं। “जनता पत्रकार” उन लोगों को प्लेटफार्म मुहैया कराने जा रहा है जो लिखने का शौक रखते हैं और चाहते हैं कि उनकी रचनाएं आवाम तक पहुंचे।

“जनता पत्रकार” के लिए लेखक को किसी भी प्रकार के अनुभव की जरूरत नहीं है। लेखक को केवल कुछ नियमों का पालन करते हुए अपनी रचना हमें ईमेल के माध्यम से भेजनी है।

खबर कैसे भेजे ?

आप अपने किसी भी तरह के लेखन कार्य (निबंध, कविता, फीचर, टिप्पणी, फिल्म समीक्षा, पुस्तक समीक्षा, खास खबर आदि) को हम तक ईमेल के माध्यम से भेज सकते हैं।

हमारी मेल आई डी है janta.patrakar@bhaskarhindi.com

निम्न बातों का रखे ध्यान

1- शीर्षक:- आप जो लेख हमें भेज रहे हैं, उसका 60 अक्षरों का एक शीर्षक होना चाहिए। ध्यान रहे शीर्षक आकर्षक होना चाहिए।

2- शब्द सीमा:- यूं तो लेख के लिए कोई भी शब्द सीमा नहीं रखी गई है, आपका लेख कितना भी बड़ा हो सकता है। लेखक कोशिश करें कि लेख कम से कम 300 शब्दों का हो।

3- फोटो:- सभी जानते हैं कि एक लेख में चित्र का क्या महत्व होता है। लेखक अपने लेख से संबंधित चित्र जरूर भेजें, जिसे पोर्टल पर फीचर किया जा सके।

4- स्वरचित हो लेख:- लेखक यह ध्यान रखें कि भेजा गया आर्टिकल स्वरचित होना चाहिए, अर्थात लेख की कहीं से भी नकल ना की गई हो। अगर लेख में नकल पाई गई तो वह प्रकाशित नहीं किया जाएगा। आपका लेख किसी भी क्षेत्र से संबंधित हो सकता है।

लेखक अपना रचना कार्य पाठक को ध्यान में रखकर करें। आपके लेख की मूल भावना जानकारी होनी चाहिए ना कि किसी व्यक्ति विशेष या समुदाय के प्रमोशन की।

भास्कर हिंदी मौका दे रहा है उन लोगों को पेशे से पत्रकार या लेखक नहीं हैं, लेकिन लिखने का हुनर रखते हैं। भास्कर हिंदी की “जनता पत्रकार” पहल के बाद अब आपके लेखों को मिल सकेगी पहचान। यानी अब आपके लेख कागज तक सीमित नहीं रह जाएंगे, वे भास्कर हिंदी पोर्टल के माध्यम से देश-दुनिया के कोने-कोने तक जाएंगे और आपकी कलम को पहचान दिलाएंगे।