वो नहीं

0
20
वो नहीं

127 total views, 7 views today

हम अकेले ज़्यादा खुश है ना किसी का इन्तज़ार ना किसी से इज़हार ना किसी से उम्मीद ना किसी से निराश लिखने में तो हम ये सब लिख ही जाते है पर क्या इसे हम अपनी ज़िंदगी में उतार पाते है?

हम कहने के लिए बहुत कुछ कह जाते है हम सिर्फ़ कही गई बातों को ही मान जाते है लेकिन क्या इस स्थिति को हम वाकई महसूस कर पाते है?

नहीं बिल्कुल भी नहीं जाने कैसे कैसे मोह में बंधने लगते है इनसे छुटकारा भी चाहते है और शायद नहीं भी चाहते आज स्थितियां बिल्कुल भी भारी नहीं लेकिन कुछ ऐसा है जो घट रहा है, जो रिस रहा है पृथ्वी की तरह बस घूम रही हूं तुम्हारे चारों ओर मगर कोई ठहराव ही नहीं मैंने तुम्हें चुना नहीं , कोई स्वयंवर रचा नहीं प्रेम के लिए

भाव आया इसमें मेरी आख़िर गलती क्या मोह आया इसमें मेरी आख़िर गलती क्या

अगर मेरा मन तुमसे लगा तुम में लगा इसमें मेरी ग़लती क्या

क्या मेरा जन्म सिर्फ़ गलती करने के लिए हुआ क्यूं नहीं तुम वो देख पाते हो क्यूं नहीं हो सकता तुम्हें प्रेम क्या तुम हो पत्थर या फ़िर सिर्फ़ मुझसे ही नहीं हो सकता तुम्हें प्रेम

मेरी ग़लती की फ़ेहरिस्त में बड़ी ग़लती ये हुई है कि जो महसूस होता है उसे मन में ना रखकर तुम्हें बताया! बस यही!

मुझसे नहीं होता मन को बहकाना और तुमसे नहीं होता मुझे स्वीकारना!

हम इस उम्र में आकर मिले ही क्यूं? तुम आए ही क्यूं नहीं जान पाई मैं ये कि प्रेम को कैसे, किससे, कब, किया जाए! मैं आख़िर कोई अवसरवादी तो हूं नहीं

वक्त दिया हमने एक दूसरे को लेकिन ये हो क्या गया! मैंने कोई साज़िश नहीं की

तुम्हारे प्रति अगर प्रेम आया तो क्या ग़लती है

तुम आज़ाद हो हर उस क्षण से जहां तुम्हें लगा हो कि ये प्रेमवश रखती है मेरा ख़्याल तुम आज़ाद हो हर उस बात से जहां तुम्हें लगा हो ज़रा भी ये कि है इसे कोई उम्मीद मुझसे

तुम इनके लिए कभी ख़ुद को दोषी मत समझना क्यूंकि ये कियाधरा सब मेरा है

मैं तुम्हें नहीं जानती भलीभांति लेकिन ख़ुद को तो बख़ूबी जानती थी ना!

क्यूं!!!!!

ये अन्तद्वंद मुझमे है ये सवाल मुझमे है पर जवाब जवाब इतने स्पष्टवादी जिनको सोचकर मुझमे घबराहट, निराशा, नाउम्मीदी पैदा हो जाती है

बस शापित होकर रह गई हूं मैं प्रेम में जिसमें लगता है कि वो है मगर वो कोई नहीं बस वास्तविकता यही है!

विभा परमार

भोपाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here